30 December 2009

2010 की गजब गर्मी-बरसात

नया साल हो सकता है, अब तक का सबसे गर्म साल।
ब्रिटेन के मौसम विभाग की बात पर यकीन करें, तो 2010 में औसत वैश्विक तापमान नई ऊंचाइयों को छू सकता है। इसके पीछे वे अलनीनो का हाथ बताते हैं। अलनीनो मौसम संबंधी परिस्थिति है, जिसकी वजह से प्रशांत महासागर का तापमान बढ़ जाता है। वैज्ञानिकों के मुताबिक 2010 में 1998 के सबसे गर्म साल का रिकॉर्ड टूट सकता है। गौरतलब है कि अभी तक 1998 दुनिया में सबसे गर्म साल रहा था।

अब नए शोध बता रहे हैं कि 1860 से अब तक सबसे ज्यादा तापमान 2010 में दर्ज किया जा सकता है। उनके मुताबिक औसत तापमान 0.6 डिग्री तक बढऩे की संभावना है। हाल ही कोपेनगेहन में संपन्न हुए जलवायु परिवर्तन सम्मेलन में भी इस शोध को पेश किया गया था। इसके साथ ही एक मजेदार बात यह भी है कि जहां साल 2010 के सबसे गर्म साल होने की संभावना जताई जा रही है, वहीं यह साल दुनिया का सबसे ज्यादा बरसात वाला साल भी हो सकता है क्योंकि गर्मी से ज्यादा आद्र्रता पैदा होगी, जिसकी वजह से बरसात भी ज्यादा होगी ।

इससे जुड़ीं अन्य प्रविष्ठियां भी पढ़ें


15 comments:

  1. बहुत अच्छा ।

    अगर आप हिंदी साहित्य की दुर्लभ पुस्तकें जैसे उपन्यास, कहानियां, नाटक मुफ्त डाउनलोड करना चाहते है तो कृपया किताबघर से डाउनलोड करें । इसका पता है:

    http://Kitabghar.tk

    ReplyDelete
  2. Please read my blog and let me know what you think!

    http://bestvacationdestinations.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. होली का हर रंग दे, खुशियाँ कीर्ति समृद्धि.
    मनोकामना पूर्ण हों, सद्भावों की वृद्धि..

    स्वजनों-परिजन को मिले, हम सब का शुभ-स्नेह.
    ज्यों की त्यों चादर रखें, हम हो सकें विदेह..

    प्रकृति का मिलकर करें, हम मानव श्रृंगार.
    दस दिश नवल बहार हो, कहीं न हो अंगार..

    स्नेह-सौख्य-सद्भाव के, खूब लगायें रंग.
    'सलिल' नहीं नफरत करे, जीवन को बदरंग..

    जला होलिका को करें, पूजें हम इस रात.
    रंग-गुलाल से खेलते, खुश हो देख प्रभात..

    भाषा बोलें स्नेह की, जोड़ें मन के तार.
    यही विरासत सनातन, सबको बाटें प्यार..

    शब्दों का क्या? भाव ही, होते 'सलिल' प्रधान.
    जो होली पर प्यार दे, सचमुच बहुत महान.

    ReplyDelete
  4. Bhai mere, abhi to na jaane kya-kya aur hona hai!?
    Ghor kaliyug hai......
    Hah hah hah hah

    ReplyDelete
  5. अल नीनो
    जरूर

    अल कायदा

    का भाई

    या बहन होगी।

    ReplyDelete
  6. नमस्‍कार,

    राजस्‍थान से नित्‍य-प्रति अनेक चिट्ठे (ब्‍लॉग) लिखे जा रहे हैं। हम जैसे अनेक हैं जो उनको पढ़ना चाहते हैं। खासकर चुनिंदा ताजा प्रविष्ठियों को।
    परंतु दिक्‍कत ये आती है कि एक जगह सभी की सूचना उपलब्‍ध नहीं है। कुछ प्रयास भी इस दिशा में हुए हैं और कुछ चल भी रहे हैं।
    हमने 'राजस्‍थान ब्‍लॉगर्स' मंच के माध्‍यम से एक प्रयास आरम्‍भ किया है। ब्‍लॉग एग्रीगेटर के रूप में। इसमें आपकी ताजा लिखी पोस्‍ट दिखेगी, बशर्ते आपका चिट्ठा इससे जुड़ा है।

    अगर आप अब तक नहीं जुडे़ तो
    http://rajasthanibloggers.feedcluster.com/
    पर क्लिक कीजिए और
    Add my blog
    पर जाते हुए अपने ब्‍लॉग का यूआरएल भरिए।
    आपका ब्‍लॉग 'राजस्‍थान ब्‍लॉगर्स' से शीघ्र जुड़ जाएगा और फिर मेरे जैसे अनेक पाठक आपकी पोस्‍ट तथा आपके ब्‍लॉग तक आसानी से पहुंचेगें।

    कृपया साझा मंच बनाने के इस प्रयास में सहभागिता निभाएं।
    आप भी जुड़ें और राजस्‍थान के अपने दूसरे मित्र ब्‍लॉगर्स को भी इस सामग्री की कॉपी कर मेल करें।
    सूचित करें।

    नित्‍य-प्रति हम एक-दूसरे से जुड़ा रहना चाहते हैं। ब्‍लॉगिंग का विस्‍तार ही हमारा ध्‍येय हैं।

    सुझाव-सलाह आमंत्रित है।

    सादर।

    दुलाराम सहारण
    चूरू-राजस्‍थान
    www.dularam.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. इंटरनेट पर विचरण करते हुए आपके ब्लाग पर आगमन हुआ.आपके विचारों से अवगत हुआ.यशस्वी एवं सार्थक ब्लाग जीवन के लिए शुभकामनाएं स्वीकारें

    ReplyDelete
  8. This is really interesting, You're a very skilled blogger. I've joined your feed and look forward to seeking
    more of your fantastic post. Also, I have shared your site in
    my social networks!

    Look into my web site: homepage

    ReplyDelete